रविवार, 20 अक्तूबर 2013

जिन्दगी




                     जिन्दगी   की  ऊँची  नीची  राहो  से  अंजान  मै
                      इधर  उधर  सब को  अपना  देखती हु
                     हर  शैतान  में  छिपा   इंसान  देखती  हु
                     फिर  धोखा  खाकर नयी  शुरुवात  देखती  हूँ 
                      कुछ हो कर  अंजान  कुछ अंजान   हु मै
                      इस  दुनिया  मै  जीने  का  अंदाज  देखती हूँ
                      बरसता  है  प्यार  जब किसी  इंसान  का
                        उस में छिपा  अब  स्वार्थ  देखती हूँ
                        खो  कर  न  पा  सकी कुछ  
                        वो  खोया  हुआ  अपना  विश्वास  ढूढती   हूँ
                         अपनो  की भीड़  में  वो  गुम  हुआ
                         अपनापन  ढूढती  हूँ
                    
                       अपनी परछाई  को भी
                         अपने  से  जुदा  देखती हूँ
                      जब  सम्हलती  हूँ  भेडियो  से
                      रेत  के मालिंद   इन हाथो  से
                       सब कुछ फिसलत  देखती हूँ  ,,,,,,,,,,,,,,इरा पाण्डेय ,,,,,,,,,,,,
                        
                    

3 टिप्‍पणियां:

Anupama Tripathi ने कहा…

हकीकत ज़िंदगी की बयान कर रही है आपकी रचना ....!!

Aparna Sah ने कहा…

jindgi ki kahani inhi uhapoh se hoke to gujarti hai....kuch lafzon me sab samoya hai.....

संतोष पाण्डेय ने कहा…

इस संवेदना को बनाये और बचाए रखिएगा। यह जिंदगी की सबसे बड़ी पूँजी है.