गुरुवार, 1 मार्च 2012

                    मेरा आईना भी मुझे से खौफ जादा है
                       मेरी ही आखो में न जाने क्यू पर्दा पड़ा है
                    जो हकीकत न स्वीकार कर खुद की तारीफ करता है
                        खुद को देख तारीफ के पुल बंधता है
                        उस के आँखों में खुद के सपने देखता है क्यू .ritu



                                           
                                  

1 टिप्पणी:

संजीव ने कहा…

अपनी सुन्दर कविताओं का दस्तावेजीकरण का यह कार्य निरंतर रखें.