गुरुवार, 7 मार्च 2013

                महिला दिवस  की  पूर्व  संध्या  में आप सभी महिला मित्रो  को बधाई छोटी सी ये  कविता आप सभी को समर्पित ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
                  सृजन  से  तू रची  बसी  है
                 भर से  तू  दबी दबी है
                पंखा  लगे  है  तुझको
                फिर  भी  उड़ने  से तू डरी डरी  है .....
                              सृजन से तू ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
               धरा  सी तू संसार का भर लिए
               जन्म  देती संतानों को
              न तुझे  मिले रोटी का टुकड़ा
               फिर भी दुध  बहता तेरी
                तेरी छाती से संतानों के लिए
                                  सृजन से तू ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
              बनता  है  पुरुष  तुझे  से महान
             फिर भी तू है तुच्छ प्राणी  सी
             ज्ञान का भंडार  होकर 
             अज्ञानता की मूरत  बनती
                             सृजन से तू ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
             शक्तिमान को  जन्म देकर
              शक्तिहीन  तू  जीवन  जीती 
              सृष्टि  का  वरदान  तू  है
              नारी   तू  महान  है  नारी तू महान है
                                   सृजन  से  तू  ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
                                                ऋतु दुबे  07;03;2013

1 टिप्पणी:

Desikalam ने कहा…

आपकी कविता हमारी वैबसाइट पर प्रकाशित की गयी है यदि आप चाहें तो अपनी सभी कवितायें हमारी वैबसाइट पर पोस्ट कर सकते हैं उसके लिए आपको रजिस्ट्रेशन करना होगा जो कि मुफ्त है।
http://desikalam.com/%E0%A4%B8%E0%A5%83%E0%A4%9C%E0%A4%A8-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%A4%E0%A5%82/