रविवार, 15 मई 2011

ख्वाब

क्यू ख्वाबो के सहारे तुम ने मुझे पाना चाह
क्यू ख्वाब को हकीकत में न बदलना चाह
जो दिल मैं चाहत की आरजुवे उफान मरती
खुदा ही खुद हमे तुम से मिलाया होता.
                                                                 ख्वाब -तो ख्वाब है हकीकत में याद न कर 
                                                                 ख्वाब में देखा था जो मुस्कुरा कर 
                                                                  उस से हकीकत में फरियाद न कर 
                                                                   बिखर जायेगे तू ख्वाबो के ख्वाब देख कर 
                                                                    जीवन में खवाबो का एतबार न कर . इरा ऋतु  दुबे १५/५/11




                                                                      

2 टिप्‍पणियां:

Chhabi ने कहा…

wah ritu...kya likhti ho...

Minakshi Pant ने कहा…

nice dost ji :)