शनिवार, 3 अगस्त 2013

पुकार

                          


               चक्षु  में  आश्रु  भर  कर  जोउ  बाट  तिहारी
                                        तुम  कब   आओगे  मेरे  द्वार   गिरधारी
             तेरी  मुरली  की मधुरी
                                         कब  घोलेगी  रस  मेरे  कानो  में
               तुम कब अधरों   में लेकर  बंसी  
                                            आवोगे   यमुना  तट  पर
              तेरी तानो  में कब नाचेगी
                                      राधा  हो कर अलबेली
              कब   गोपिया  अधरों  में  धर  के हास्य  
                                          बोलेगी  मत कर परिहास  गिरधारी
             कब  मधुप  यमुना  के कमल दल
                               में हो कर मतवाले  करेगे गुंजार तेरी महिमा के
              कब फिर   गाय   ग्वालो  संग
                                             चरेगी  यमुना के तट  पर

                             -----------तुम कब  आओगे  गिरधारी!!  ऋतु 

7 टिप्‍पणियां:

Aparna Sah ने कहा…

yek-yek lafz bemishal hain......

Aparna Sah ने कहा…

tum kab aaoge.....ar lafz bemishal...

Ranjana Verma ने कहा…

बेहतरीन पोस्ट!!

IRA Pandey Dubey ने कहा…

thax ranjana ji ,aap ko meri rachana pasand aayi

IRA Pandey Dubey ने कहा…

thax aparna ji bahut bahut dhanywad aap ne meri rachana padhi aur sarahan ki

Aditi Poonam ने कहा…

बहुत सुंदर भाव इरा....भक्ति रस से सरोबार...
कब आओगे तुम गिरिधारी....अँखियाँ बाट
निहारत हारीं ...कब आओगे...

IRA Pandey Dubey ने कहा…

thax aditi didi aap ne meri rachana padhi aur saharayi ,